जिला में बाढ़ पूर्व तैयारी में जुटा अंचल प्रशासन

मधुबनी : जिला मे मानसून से पूर्व ही बाढ़ पूर्व तैयारी में प्रखंड अंचल प्रशासन अपनी ताकत झोंक दी है। आपदा के समय राहत देने के लिए मची आपाधापी से बचने का काम पूर्व में ही किया जा रहा है। ताके लोगो को राहत मिल सके । कइ प्रखंड में अंचलाधिकारी द्वारा बांध व नहर यानी जहा पूर्व में बाढ आकर आफत मचाया था उसको निरक्षण कर रहे है। ताकी बाढ का पानी तबाही न मचा दे।

अंचलाधिकारी द्वारा पूर्व के वर्षों में बाढ़ एवं अतिवृष्टि पीड़ित लोगों की सूची अपडेट की जा रही है। जीआर सूची में शामिल लोगों को सरकार द्वारा आपदा राहत के लिए प्रत्येक परिवार 6 हजार की राशि दी गई थी। इस बार कोरोना काल में ही अंचल प्रशासन सभी पंचायतों से पूर्व की सूची को आधार मानकर जीआर के लिए संभावित लाभुकों की आधार एवं पासबुक अपडेट कर रही है। अब तक कई नगर पंचायत एवं प्रखंड के लगभग पंचायतों के संभावित लोगों की सूची अपलोड की जा चुकी है।काम लगभग तेजी से किया जा रहा है।

मधवापुर अंचलाधिकारी रामकुमार पासवान ने बताया कि प्रत्येक दिन डाटा ऑपरेटर को सूची अपलोड करने के लिए लगाया गया है। संभावित आफत, अतिवृष्टि या बाढ़ की स्थिति में सरकार के निर्देशानुसार प्रत्येक परिवार को त्वरित गति से छह हजार की राशि पूर्व के वर्षों की भांति खाते में दी जाएगी। नए लोग या छूटे हुए लोगों का नाम संबंधित पंचायत के अनुश्रवण समिति से अनुमोदन के बाद शामिल किया जाएगा।

ADVERTISEMENT

फिलहाल पूर्व में लाभ प्राप्त करने वाले लोगों की सूची ही अपडेट की जा रही है। बीते वर्ष अफरातफरी में जीआर राशि वितरण में कहीं—कहीं डबल एंट्री हो गई थी। इस विसंगति को इस बार दूर करने का प्रयास किया जा रहा है। बाढ़ या अतिवृष्टि नहीं हुई तो राशि वितरण नही होगी। इधर वार्डों में लोग अपने आधार कार्ड एवं खाता बुक का फोटो स्टेट लेकर वार्ड सदस्य एवं मुखिया के यहां दौड़ लगानी शुरू कर दी। लोगो में भ्रांतियां है कि सरकार जल्द ही जीआर राशि देगी जिसे जनप्रतिनिधि स्तर से भी स्पष्ट नहीं किया जा रहा है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: