चंपा में पीएचइडी मंत्री का ग्रामीणों ने किया विरोध, लगाये गो बैक के नारे

  • नल जल योजना का उद्घाटन करने ढंगा पंचायत के चंपा गांव पहुंचे थे मंत्री
  • बिना उद्घाटन किये लौटे बैरंग लौटे मंत्री और समर्थक
  • अधूरे निर्माण पर ग्रामीण जता रहे थे विरोध

बेनीपट्टी (मधुबनी): बिहार विधानसभा का चुनाव (Bihar Assembly Election) नजदीक आते ही एक ओर जहां उद्घाटन शिलान्यास करने का सिलसिला तेज हो गया और इस बहाने विभिन्न दलों के विधायक, मंत्री और अन्य जनप्रतिनिधिगण मतदाताओं को रिझाने में जुट चुके हैं तो दूसरी ओर जनता भी अब मुखर होकर विरोध करना शुरु कर चुकी है. दरअसल चुनाव से पहले आम जनता के बीच विकास कार्य करने का श्रेय लेने की होड़ सी मच गयी है, ताकि जनता को दिखा सकें कि हमने क्या-क्या काम किया है. इसके उलट जनता अब इन नेताओं से बेबाकी से काम का हिसाब लेने में कोई कोर कसर नही छोड़ रही है.

इससे स्पष्ट है कि विकास के नाम पर अब जनता बहुत ही सजग हो गई है और बिना काम करनेवाले जनप्रतिनिधियों को बख़्शने के मूड में नही है. इस क्रम में इन नेताओं को जनता के कोपभाजन का शिकार भी होना पड़ रहा है. ताजा मामला बेनीपट्टी प्रखंड के ढंगा पंचायत के चंपा गांव के वार्ड 2 की है, जहां पीएचइडी विभाग (PHED Department) द्वारा चालू किये गये निर्मल नीर योजना (Nirmal Neer Yojana) का उद्घाटन करने पहुंचे सूबे के पीएचइडी मंत्री विनोद नारायण झा (PHED Minister Vinod Narayan Jha) को ग्रामीणों का गुस्सा का शिकार होना पड़ा.

आक्रोशित ग्रामीण मंत्री जी को गो बैक के नारे लगा अपना विरोध जताने लगे. लोग बिना योजना का पूरा हुए आनन फानन में उद्घाटन कराये जाने से आक्रोशित थे. कुछ लोगों का आरोप था कि कार्य अधूरा ही है. वार्ड के सभी घर में बिना नल लगाये ही उद्घाटन कराया जा रहा है. ग्रामीणों का तेवर देख कुछ देर के लिये मंत्री जी अवाक रह गये. इसके बाद खुद मंत्री श्री झा ने नजाकत को समझते हुए ग्रामीणों के आरोप को स्वीकार किया और विभागीय कर्मियों को जमकर फटकार लगायी. इसके बाद वे बिना उद्घाटन किये वहां से वापस बैरंग लौट गये.

हालांकि ग्रामीणों के उग्र रूप को देख कर अरेर थाना पुलिस मौके पर दल बल के साथ पहुंच गयी थी और लोगों को समझाने बुझाने की कोशिश करना चाह रही थी लेकिन ग्रामीणों के उग्र रूप को देख पुलिस कुछ विशेष नहीं कर सकी. पुलिस के लाख समझाने के बाद भी कोई ग्रामीण मानने के लिये तैयार नहीं था. उधर, मंत्री श्री झा के चंपा गांव पहुंचते ही ग्रामीणों ने जमकर गो बैक सहित अन्य नारे के साथ नारेबाजी की. कुछ देर के लिए मंत्री भी असहज हो गये थे. काफी देर बाद मंत्री गाड़ी से उतर कर ग्रामीणों से वार्ता कर उद्घाटन करने से इंकार कर बैरंग लौट गये.

मंत्री श्री झा ने बताया कि जब तक निर्माण कार्य पूर्ण नहीं होगा, और इसकी पुष्टि यहां के ग्रामीणों द्वारा नही होगी तब तक उद्घाटन नहीं किया जायेगा. मंत्री जी के साथ पहुंचे उनके कार्यकर्ता और समर्थक भी भारी निराशा के साथ वापस लौटने को मजबूर थे. बताते चलें कि बीते दिनों प्रखंड के जमुआरी गांव में नाले का उद्घाटन करने पहुंची बेनीपट्टी विधानसभा की कांग्रेस विधायक भावना झा को भी ग्रामीणों के गुस्से का शिकार होना पड़ा था. तब लोगों ने विधायक जी से सवालों की झड़ी लगा दी थी और वे अपने को मालिक और जनता को बेहूदा व पागल कहते हुए किसी भी सवालों का बिना जबाब दिए चल पड़ीं थीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!