भारत माता धार्मिक माला पैकेज के तहत प्रस्तावित एनएच निर्माण के लिये जमीन का हुआ सत्यापन

बेनीपट्टी : विश्व प्रसिद्ध सिद्धपीठ उच्चैठ भगवती स्थान से सहरसा के उग्रतारा स्थान को जोड़नेवाली भारत माता धार्मिक संपर्क माला पैकेज योजना के तहत प्रस्तावित एनएच निर्माण हेतु भूमि सत्यापन किया गया। यह कार्य शनिवार को जिला से आयी छह सदस्यीय टीम द्वारा किया गया। टीम में शामिल एडीएम सह जिला भूअर्जन पदाधिकारी मो. राजिक, जिला अवर निबंधक रिंकी कुमारी, एसडीएम अशोक कुमार मंडल, डीसीएलआर शिवकुमार पंडित और सीओ पल्लवी कुमारी गुप्ता ने बेनीपट्टी पहुंचकर संसार पोखर से अरेर तक उक्त सड़क में पड़नेवाली जमीन के किस्म का भौतिक सत्यापन किया।

इस अभियान में अधिकारियों की टीम ने एनएच में पड़ने वाले भूमि के खाता व खेसरा नंबर से मिलान करते हुए यह सत्यापन किया कि कौन सी जमीन व्यावसायिक, आवासीय और कृषि योग्य भूखंड है। ताकि जो जमीन जिस योग्य है उसका अधिग्रहण कर उसी के अनुरूप रैयतों को सरकार द्वारा कैटेगरी बाइज निर्धारित देय अधिग्रहित मुआवजा राशि का भुगतान कराया जा सके।

ADVERTISEMENT

बता दें कि बेनीपट्टी प्रखंड सीमा तक ही मुख्यालय के संसार चौक से अरेर तक जिस जमीन का उल्लेख सर्वेक्षण में था सिर्फ उसका ही सत्यापन किया गया। वहीं अधिकारियों ने बताया कि रैयतों द्वारा आवश्यक सभी कागजात सौंपे जाने के बाद भुगतान की प्रक्रिया भी प्रारंभ कर दी जायेगी। इसके लिये आवश्यकता के अनुसार कैम्प भी लगाये जायेंगे।

मिली जानकारी के अनुसार भारत माता धार्मिक संपर्क माला योजना के तहत तकरीबन पांच हजार करोड़ रुपये की लागत से 180 किलोमीटर की दूरी में बनेगी। जो अनुमंडल क्षेत्र के धार्मिक स्थल उच्चैठ भगवती स्थान, कालिदास डीह, विद्यापति डीह और हरलाखी के कल्याणेश्वर स्थान को जोड़ते हुए सुपौल होकर सहरसा स्थित एनएच 107 में मिलेगी। जिसके तहत यह प्रस्तावित एनएच सड़क साहरघाट होते हुए बेनीपट्टी के उच्चैठ से निकलकर एनएच बेहटा, जगत, बेनीपट्टी, सरिसब, अरेर होते हुए उग्रतारा स्थान सहरसा सुपौल तक बनेगी। जिसके माध्यम से सभी महत्वपूर्ण तीर्थ स्थलों का परस्पर जुड़ाव हो सकेगा।

इस राष्ट्रीय उच्च पथ के बाद तीन जिलों की दूरी कम हो जायेगी। इस सड़क के निर्माण का प्रस्ताव वर्ष 2016 में दिया गया था और अब निर्माण कार्य की प्रक्रिया शुरू होते ही अनुमंडल क्षेत्र के लोगों में हर्ष व्याप्त है। कई लोगों ने कहा कि एनएच का निर्माण होने से बेनीपट्टी का विकास होगा। इस एनएच का निर्माण होना न केवल बेनीपट्टी के लिये सुखद है बल्कि संपूर्ण मिथिलांचल के लिये एक सौगात भी होगी।

उक्त सड़क के निर्माण होने से सभी धार्मिक और पौराणिक स्थलों के साथ-साथ मिथिलांचल का भी विकास होगा, जिसमें अनुमंडल प्रक्षेत्र के उच्चैठ भगवती स्थान, कालिदास डीह, विद्यापति डीह, कल्याणेश्वर स्थान और गिरिजा स्थान सहित अन्य धार्मिक स्थल भी शामिल होगा।

मौके पर भूअर्जन कार्यालय के प्रधान लिपिक सतीश झा और संबंधित निर्माण योजना के साइड अभियंता राहुल कुमार सहित अन्य लोग भी मौजूद थे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: