प्रीति झा व माधव झा को गांव छोड़ने का पंचायत ने सुनाया फरमान

बाबूबरही : मिथिला की धरती एकबार फिर से दाग़दार हुआ है। एक प्रेमी ने अपने ही प्रेमिका को धोखाधड़ी से शादी किया और फिर आज उसको अपने घर के अंदर प्रवेश करने के लिए पाबंदी लगाया हुआ है। जिसको लेकर प्रेमिका ने अपने ससुराल के दरवाज़े पर हाय तौबा मचा रखी है। जिसके बाद मीडिया ट्रॉयल में प्रेमिका ने अपने पति और ससुराल वाले ख़िलाफ़ प्रशासनिक अधिकारियों से भी शिक़ायत की थी। लेकिन प्रेमिका की शिकायतें कचड़े की डब्बे में डाल दिया गया।

जिसके बाद ही प्रेमिका ने अपने ससुराल के दरवाजे पर दस्तक दी और अपने ससुराल में हक़ के लिये मोर्चा खोल दी। मधुबनी जिले के बाबूबरही थाना इलाके के घंघोर गाँव में एक प्रेमिका ने पांचवें दिन तक भूख हड़ताल की थी। जो कि अपने पति का प्यार और ससुराल में प्रवेश करने के लिए हाय तौबा मचा दी थी।

ADVERTISEMENT

उसी को लेकर मीडिया ट्रॉयल भी खूब हुई, जब मीडिया ट्रॉयल हुआ तो ब्राह्मण समाज के लोगों ने पंचायत बुलाया। उस पंचायत में ज्योति झा और माधव झा को गाँव से निकालने का फरमान सुनाया गया। आपको बताते चलें कि ज्योति झा और माधव झा की प्रेम कहानी काफी चर्चे में रहा और इलाके में खूब जोरों पर चली है और घंघोर गाँव में हाय तौबा मचा हुआ था।

ADVERTISEMENT

जिसके बाद ब्राह्मण समाज के लोगों ने ज्योति झा को ही उम्र भर खाने पीने से लेकर कपड़े तक देने की सजा दिया गया। हालांकि इस पंचायत में किसी मीडिया को कवरेज अथवा प्रवेश का इजाजत नही दिया गया। जब पंचायत की करवाई खत्म हुई तो उसके बाद समाज के कुछ लोगों ने बताया कि ज्योति झा और माधव झा की प्रेम कहानी को समाप्ति किया गया और दोनों अपनी स्वेक्षा से गाँव से जाने की बात कहा है। जबकि ब्राह्मण समाज के लोगों ने ज्योति और माधव झा को दोनों को गाँव से भगाने का फरमान जारी किया है।

ADVERTISEMENT

सूत्रों ने बताया कि बेनीपट्टी के भाजपा विधायक विनोद नारायण झा के ऐलान पर यह पंचायत किया गया था। वहीं भाजपा विधायक विनोद नारायण झा की नाम इस ज्योति झा के कांड में आया तो उनका खासमखास एक नेता ने मीडिया पर बरसे और मीडिया को गलत साबित किया।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: