सीमा पर तैनात एसएसबी जवानों ने लगाए सैकड़ो पौधे, कहा पर्यावरण को संतुलित रखना हम सब की जिम्मेदारी

एक वृक्ष लगाना दस पुत्रों को पालने जितना महत्व रखता है

हरलाखी : भारत-नेपाल सीमा पर तैनात एसएसबी 48 वीं वाहिनी जयनगर के तत्वाधान में विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर पिपरौन व गंगौर कैंप के द्वारा पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पौधरोपण पिपरौन एसएसबी कैंप अंतर्गत महादेवपट्टी व दिघीया बीओपी एवं गंगौर एसएसबी कैंप अंतर्गत अखरहरघाट व फुलहर बीओपी के जवानो ने भी किया। कार्यक्रम पिपरौन एसएसबी कैंप में इंस्पेक्टर दीपक मंडल व गंगौर कैंप में इंस्पेक्टर मिथलेश कुमार की अध्यक्षता में हुई। वहीं अखरहरघाट में बिशम्बर चौहान, फुलहर में कृष दत्त, महादेवपट्टी में संजीव कुमार व दिघीया में सुजीत साहा के अध्यक्षता में पौधरोपण किया गया।

पिपरौन एसएसबी कैंप में पौधरोपण करते जनप्रतिनिधि व एसएसबी जवान

कार्यक्रम के दौरान पिपरौन एसएसबी कैंप में क्षेत्र संख्या दो के जिला परिषद सदस्य सरिता देवी, स्थानीय मुखिया पति यशवंत कुमार, पूर्व मुखिया सह सीपीआई नेता बिल्टू महतो, जदयू नेता रणवीर सिंह, समाजसेवी बंटी सिंह, शिक्षक सुरेंदर पासवान व मंटु महतो गंगौर एसएसबी कैंप में स्थानीय मुखिया शिवचंद्र मिश्रा, सरपंच वीरेंदर यादव, समाजसेवी बिट्टू मिश्रा व उच्च विद्यालय के एचएम विमल यादव शामिल हुए। पिपरौन कंपनी के तहत उमगांव उच्च विद्यालय के अलावे पिपरौन, दिघीया व महादेवपट्टी के कई विद्यालयों में पौधरोपण किया गया। वहीं गंगौर कंपनी के तहत उच्च विद्यालय सहित कई जगहों पर पौधरोपण किया गया। दोनों एसएसबी कंपनी के तत्वाधान में करीब 12 सौ पौधे लगाए गए।

ADVERTISEMENT

कार्यक्रम के उपरांत पत्रकारो को संबोधित करते हुए पिपरौन कंपनी इंचार्ज ने कहा एक पेंड़ लगाना दस पुत्र को पालने से ज्यादा महत्व रखता है। पर्यावरण को संतुलित एवं प्रदुषण मुक्त रखने के लिए पेंड़ लगाना अति लाभदायक होता है। पर्यावरण संतुलित रहने से मानव जीवन में खासा प्रभाव रखता है। मनुष्य को स्वस्थ्य रहने में पर्यावरण की अहम भूमिका होती है। इसलिए मानव जीवन में पेंड़ लगाना सबसे अधिक महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: