जमानत पर रिहा होकर महमदपुर पहुंचे संजय सिंह, परिजन फफक कर रो पड़े

माता पिता से मिल फफक-फफक कर रोने लगे संजय

परिजन भी संजय के गले मिलकर करने लगे विलाप

बेनीपट्टी के महमदपुर में अपने विलखते पिता को चुप कराते संजय

बेनीपट्टी : थाना के महमदपुर में गोलीबारी में हुई हत्याकांड के 11 वें दिन गुरुवार दिन के करीब सवा बारह बजे दिन में महमदपुर गांव स्थित अपने पैतृक आवास पर पुलिस की खास सुरक्षा में पहुंचे. उनके घर पर पहुंचते ही एक बार फिर से मातम पसर गया. दरबाजे के पास पहुंचते ही संजय के आखों से आसूं बहने लगे. जैसे-जैसे उनके कदम अपने घर की ओर रहा था उनका रोना तेज हो रहा था. घर पर पहुंचते ही संजय परिजन का और परिजन संजय का गले पकड़कर फफक-फफक कर रोने लगे.

new
ADVERTISEMENT

शामियाने में अनशन पर बैठे सभी परिजन भी जोर-जोर से रोने विलखने लगे. बच्चों और महिलाओं का भी रो-रो कर बुरा हाल था. परिजनों के विलाप से एक बार फिर से मातम की स्थिति दिखने लगी. संजय दरबाजे पर पहुंचते ही सबसे पहले बरामदे पर बैठी अपनी मां के गले पकड़ कर रोने विलखने लगे. वहां से लोग उन्हें दरबाजे पर लगे शामियाने में लेकर आये जहां उस समय औरंगाबाद के सांसद सुशील कुमार सिंह और एमएलसी सुमन महासेठ के साथ उनके पिता सुरेंद्र सिंह बैठे थे. उक्त जगह पहुंचते ही सुरेंद्र सिंह संजय का हाथ पकड़कर रोने विलखने लगे. अपने पिता की हालत देख संजय भी अपने आप को रोक नही सके और फफक-फफक कर रोने लगे और अपने पिता को भी चुप कराने लगे.

ADVERTISEMENT

इसी बीच संजय को देखते ही उनके छोटे-छोटे बच्चे भी रोने लगे और गोद में जाने की ज़िद करने लगे तो किसी परिजन ने उस बच्चे को लाकर संजय सिंह के पास पहुंचाया. बच्चे के आते ही संजय बच्चों को गोद में लेकर चूमने लगे. दरबाजे पर खड़े सभी लोगों के आखों में भी आंसू आ गये. इसके बाद सांसद श्री सिंह और एमएलसी श्री महासेठ ने संजय से पूर्व के विवाद की पूरी जानकारी ली. इसके बाद नेता द्वय ने घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने का आश्वासन दिया.

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: