पर्व त्यौहार में बाहर से आने वाले लोगों की होगी कोविड जांच

  • कार्यपालक निदेशक, राज्य स्वास्थ्य समिति ने पत्र जारी कर जिलाधिकारी एवं सिविल सर्जन को दिए निर्देश
  • रैपिड एंटीजेन टेस्ट में संक्रमित पाए जाने पर होगी आरटी-पीसीआर जांच
  • रेलवे स्टेशन, बस अड्डा एवं एयरपोर्ट पर की जाएगी जांच
  • संक्रमित पाए गए लोग होंगे होम आइसोलेट

मधुबनी : जिला सहित पूरे राज्य में कोविड 19 वैश्विक महामारी से बचाव हेतु टीकाकरण कार्य संचालित किया जा रहा है. देश ने कोविड टीकाकरण का सौ करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है और पूरे देश में ज्यादा से ज्यादा लोगों को टीकाकृत करने की मुहीम जारी है. आगामी नवंबर माह में आने वाले पर्व त्यौहार के कारण राज्य से बाहर रहने वाले निवासियों के आवागमन की प्रबल संभावना है.

ADVERTISEMENT

ऐसे में कोविड संक्रमण के खतरे को ध्यान में रखते हुए राज्य में प्रवेश करने वाले सभी प्रमुख स्थलों जैसे रेलवे स्टेशन, बस अड्डा जैसी जगहों पर बाहर से आने वाले लोगों की रैपिड एंटीजेन टेस्ट के द्वारा जांच की जायेगी. इस आलोक में संजय कुमार सिंह, कार्यपालक निदेशक, राज्य स्वास्थ्य समिति ने सभी जिलाधिकारी एवं सिविल सर्जन को पत्र जारी कर जरुरी निर्देश दिए हैं.

ADVERTISEMENT

रेलवे स्टेशन, बस अड्डा व एयरपोर्ट पर की जाएगी जांच :

जारी पत्र में निर्देश दिया गया है कि जिलान्तर्गत प्रवेश करने वाले सभी प्रमुख स्थलों यथा: रेलवे स्टेशन, बस अड्डा एवं एयरपोर्ट पर कोविड-19 की जांच रैपिड एंटीजेन टेस्ट के द्वारा सुनिश्चित कराया जाना है. जारी पत्र में निर्देशित है कि रैपिड एंटीजेन टेस्ट में व्यक्ति के संक्रमित पाए जाने पर तत्काल उक्त व्यक्ति की आरटी-पीसीआर जांच करना सुनिश्चित किया जाए.

संक्रमित पाए गए लोग होंगे होम आइसोलेट :

जारी पत्र में बताया गया है कि आरटी-पीसीआर जांच का प्रतिवेदन प्राप्त होने तक एंटीजेन पॉजिटिव लोगों को जिला के किसी क्रियाशील आइसोलेशन सेंटर में रखने की व्यवस्था की जाये. आइसोलेशन सेंटर में रखे गए लोगों की इलाज की व्यवस्था संक्रमण के लक्षण के आधार पर सुनिश्चित किया जाये. साथ ही आरटी-पीसीआर जांच में नेगेटिव आने वाले व्यक्तियों को उनके घर जाने दिया जाये.

ADVERTISEMENT

जारी पत्र में निर्देशित है कि अगर संक्रमित व्यक्तियों के परिलक्षित लक्षणों के आलोक में होम आइसोलेशन में भेजने का निर्णय लिया जाता है तो उक्त व्यक्ति के स्वास्थ्य के नियमित पर्यवेक्षण की व्यवस्था भी सुनिश्चित किया जाना है. पत्र में निर्देशित है की जारी निर्देशों का सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित किया जाये.

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: