किसान की समस्याओं को गंभीरता से लेने की जरुरत

प्रखंड उर्वरक निगरानी समिति की बैठक में छाया रहा अनियमितता का मुद्दा

बेनीपट्टी(मधुबनी)

प्रखंड कार्यालय: के समीप इ किसान भवन के सभागार में प्रखंड स्तरीय उर्वरक निगरानी समिति की बैठक सीओ पल्लवी कुमारी गुप्ता की अध्यक्षता में हुई. जिसमें उर्वरक विक्रेताओं की उपस्थिति नही देख मौजूद सदस्य भड़क गये. भाकपा के अंचल मंत्री आनंद कुमार झा ने बैठक की शुरुआत में ही निंदा प्रस्ताव लाकर अधिकारियों के रवैये की निंदा की और कहा कि जब बैठक में उर्वरक विक्रेता ही मौजूद नही है

बेनीपट्टी स्थित इ किसान भवन में आयोजित उर्वरक निगरानी समिति की बैठक में मौजूद सीओ, बीएओ, बीसीओ व सदस्य

तो सदस्यों को यह कैसे जानकारी मिलेगी कि किसानों के लिए किस दुकान में कितने उर्वरक उपलब्ध कराए गये और कितनी कीमतों पर किसानों के हाथों बेची जा रही है. उर्वरक के आवंटन और उपलब्धता सबंधित कोई जानकारी ही नही मिलेगी तो यह बैठक की खानापूरी क्यों की जा रही है. यह महज कागजी कार्रवाई कर किसानों और सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को बरगलाने का एक प्रयास है, जो नही चलेगी.

निंदा प्रस्ताव आते ही बैठक में मौजुद सभी सदस्यों ने एक स्वर में निंदा प्रस्ताव का समर्थन करते हुए कहा कि अधिकारी विक्रेताओं के साथ मिलीभगत कर कमीशन वसूलते हैं और किसान दिनोंदिन बदहाल हो रहे हैं. सरकार की किसानों की आय दोगुनी करने की घोषणा को अधिकारी चुना लगाने का काम कर रहे हैं. राजद प्रखंड अध्यक्ष विजय यादव ने सबंधित अधिकारी पर आरोप लगाया कि अपने संरक्षण में निर्धारित कीमत से अधिक दाम वसूल कर किसानों का दोहन करवाया जा रहा हैं.

उनके संरक्षण में दुकानदारों के द्वारा उर्वरक की कालाबाजारी कराये जाने की शिकायतें आ रही है. वहीं लोजपा प्रखंड अध्यक्ष ललिन्द्र कुमार सिंह उर्फ कन्हैया सिंह ने प्रखंड में बिस्कोमान के तीन उर्वरक केंद्र खुलवाने का प्रस्ताव रखते हुए कहा कि पूर्व की बैठक में भी इसे पारित किया जा चुका है लेकिन पहल नही की जा सकी. अरेर, बसैठ और मुख्यालय सहित तीन जगहों का प्रस्ताव सरकार को भेजें जायें. उक्त प्रस्ताव को आत्मा अध्यक्ष मो. जुबेर सहित सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से पारित किया.

जबकि जदयू प्रखंड अध्यक्ष शशिभूषण सिंह ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि किस उर्वरक का क्या दाम है यह सार्वजनिक किया जाना चाहिये. इसको ध्यान रखते हुए सभी उर्वरक विक्रेताओं द्वारा अपनी दुकानों पर मूल्य तालिका संबंधित बोर्ड लगवाये जाने की पहल करने की मांग की ताकि किसान दोहन से बच सके. इस दौरान अन्य सदस्यों ने सरकार द्वारा अनुदानित दर पर मिलनेवाले बीज की कालाबाजारी करने और पूर्व की बनायी गयी निगरानी समिति के द्वारा कोई निगरानी नही किये जाने का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की.

बैठक में मौजूद बीएओ विजय गुप्ता ने सभी सदस्यों को आश्वस्त कराया कि सभी शिकायतों का निदान किया जायेगा. आगे से इस तरह की शिकायत नही रहेगी. बैठक को संबोधित करते हुए सीओ पल्लवी कुमारी गुप्ता ने कहा कि किसान ही देश की रीढ़ हैं. जो सभी को पेट पालने का काम करते हैं. सरकार के स्तर पर किसानों के माली हालत में सुधार लाने के लिये कई कल्याणकारी योजनाएं चलायी जा रही है. किसानों की समस्या को गंभीरता से लेने की जरुरत है, ताकि किसान खुशहाल होगा तो पूरा देश खुशहाल होगा. मौके पर बीसीओ संजीत कुमार गुप्ता सहित अन्य लोग भी मौजूद थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!