महागठबंधन में कुशवाहा ने ली करवट RJD का रुख देखकर बदला पैंतरा

रालोसपा के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव माधव आनंद ने कहा कि अगर हमें कोई सम्मान नहीं देना चाहते तो हम भी सम्मान के मुहताज नहीं है।

मधुबनी: पिछले दिनों नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव से मुलाकात करने वाले रालोसपा अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा खुद को तरजीह नहीं मिलने से बेचैनी में है. कुशवाहा ने अब महागठबंधन में नई करवट ली है. उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने पैंतरा बदलते हुए आरजेडी को अब आंख दिखाना शुरू कर दिया है. उपेंद्र कुशवाहा ने अपने पार्टी के नेताओं की गुरुवार को अहम बैठक बुलाई है. कुशवाहा इस बैठक में यह फैसला करेंगे कि विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी किस रास्ते पर आगे बढ़े.

कुशवाहा के करीबी और रालो सपा के नेता माधव आनंद ने एक बार फिर से आरजेडी को खरी-खरी सुनाई है. उपेन्द्र कुशवाहा क्या मांझी की राह पर चलने वाले हैं? यह सवाल इसलिए है क्योंकि जिस कृषि बिल का आरजेडी-कांग्रेस विरोध कर रही है उसी बिल का उपेन्द्र कुशवाहा समर्थन कर रहे हैं। ऐसे में उन कयासों को और मजबूती मिली है कि उपेन्द्र कुशवाहा शायद महागठबंधन से अलग होने का फैसला  ले लें।

रालोसपा के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव माधव आनंद ने कहा कि अगर हमें कोई सम्मान नहीं देना चाहते तो हम भी सम्मान के मुहताज नहीं है। उन्होंने कहा कि हर बार हम डिमांड कर रहे थे कि समय रहते सीटों को लेकर बात फाइनल हो जाए लेकिन हमारी डिमांड नहीं पूरी हो पायी।

ADD

अब कल पार्टी की बैठक होने वाली है जिसमें कोई निर्णय लिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!