बेनीपट्टी में भी तेज हवा के साथ रुक-रुक कर हुई बारिश से फूस के कई घर गिरे

कई जगहों पर पेड़ पौधे तो कई जगहों पर बिजली का तार टूटकर गिर

तीसरे दिन भी विधुत आपूर्ति ठप रहने से चरमरायी संचार व्यवस्था

याश तूफान के असर की आशंका से भयभीत घरों में दुबके रहे लोग

यास से बेनीपट्टी में नुकसान

बेनीपट्टी :अनुमंडल के सभी इलाके में शुक्रवार को पूरे दिन हुई तेज हवा के साथ रुक-रुक कर बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त रहा. शुक्रवार की देर रात से हवा के झोंके कम हुए तो पूरी रात झमाझम बारिश होती रही. शनिवार को भी पूरे दिन आसमान में काले बादल छाये रहे और हल्की ठंडी हवा के झोंके के साथ रुक-रुक कर बारिश की फुहारें पड़ती रहे. जिससे कई चौक चौराहों के अलावे ग्रामीण व मुख्य सड़कों पर घुटने भर जलजमाव हो गया. आवाजाही में राहगीरों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है.

शनिवार की सुबह से बारिश रुकने से लोग फिलहाल राहस की सांस लेते दिख रहे हैं. लेकिन आसमान में छाये बादल से फिर भारी बारिश होने की आशंका से चिंतित भी नजर आ रहे थे. हालांकि शुक्रवार की रात से हवा की गति कम होने से अनुमंडल क्षेत्रों में भी याश तूफान का असर धीरे-धीरे कम होने की उम्मीद स्थानीय लोगों के द्वारा जतायी जा रही है. तूफानी हवा और बारिश की वजह से जनजीवन अस्त व्यस्त रहा और लोग परेशान रहे. लोग सहमे अपने-अपने घरों में दुबके रहने को विवश रहे. सड़कों पर भी आवागमन बंद रहा. पिछले तीन दिनों से विधुत आपूर्ति ठप रहने से लोग बेहद परेशान रहे.

ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT

बर्री पंचायत के रजिया गांव में तेज हवा के झोंके की वजह से बिजली के टूटे तार को अब तक ठीक नही किया जा सका था. कई स्थानों पर बिजली के पोल तो कई जगहों पर पेड़ पौधे गिर पड़े. विशनपुर पंचायत में शुक्रवार को बिजली का तार टूटकर खेत मे जा गिरा है. इसके अलावे कई और गांवों के घरों के छत के एस्बेस्टस उड़ गये. विधुत आपूर्ति ठप होने से अधिकांश चार्जेबल उपकरणें भी ठप हो गये. जिसे चार्ज करने के लिये लोग परेशान रहे. मोबाइल व चार्जेबल लाइट डिस्चार्ज रहने की वजह से अधिकांश इलाके के लोग भय के साये में अंधेरे में ही शुक्रवार की पूरी रात गुजारी.

कई स्थानों पर आसमान में बेहद घने बादल छाये रहने के कारण दिन में ही शाम जैसे अंधेरे की स्थिति बनी रही. लोग सोशल साइट के जरिये भी तूफान के असर का पता और अनुमान नही लगा सके. जिससे लोग बेचैन और परेशान रहे. उधर गुरुवार को नगवास पंचायत के करही गांव में दिनेश सिंह के फूस की बनी झोपड़ी टूटकर ध्वस्त हो गयी तो शुक्रवार की देर शाम में नवकरही पंचायत के वार्ड 9 में छत के एस्बेस्टस पर नारियल सहित कई पेड़ पौधे गिर जाने से एस्बेस्टर टूटकर बिखर गया. उसके बगल की फूस की झोपड़ी ध्वस्त हो गयी. शुक्रवार को ही देर शाम बसैठ के वार्ड 10 में फूस के बने मकान का छप्पर ध्वस्त हो गया.

शुक्रवार की देर रात तकरीबन 8 बजे के आस-पास नगवास पंचायत के वार्ड 11 स्थित बरही गांव निवासी पिंटू पासवान का फूस का घर टूटकर ध्वस्त हो गया. मौसम और तूफान की चेतावनी के भय का आलम यह रहा कि लोग रोजमर्रा के सामानों की भी खरीद बिक्री नही कर सके. गौरतलब हो कोविड महामारी की रोकथाम के लिये जारी लॉक डाउन में सुबह के चार घंटे ही दुकान खोले जाने का समय निर्धारित होने की वजह से लोग हाट बाजार के कार्यों को निबटाने से भी महरूम रहे.

बताते चलें कि 30 मई तक याश तूफान का असर होने की चेतावनी से लोग परेशान और भारी बारिश के बज्रपात से बचाव आदि अनजाने भय से ग्रसित हैं. कई लोगों ने कहा कि 30 मई तक असर बढ़ता रहा तो स्थिति विकराल हो सकती है.

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: