बेनीपट्टी में तेज आंधी के साथ ओलावृष्टि, जनता कर उठी त्राहिमाम-त्राहिमाम

ओलावृष्टि और तूफान ने किसानों पर बरसाया कहर, गेहूं और आम बर्बाद

बड़े-बड़े ओले गिरने से घर का एस्बेस्टस चकनाचूर

बेनीपट्टी (मधुबनी): प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न गांवों में शुक्रवार की रात कुदरत ने अपना रौद्र रूप दिखाया। अधिकांश गांवों में तेज आंधी, मेघगर्जन के साथ बर्फो की वर्षा हुई। आंधी और ओलावृष्टि को देख जनता त्राहिमाम-त्राहिमाम कर उठी। प्रखंड के परकौली पंचायत के सैकड़ो घर के एस्बेस्टस उड़ गये। कई फूस घर के छप्पर उड़ गये। वही खेतों में गेंहू की थ्रेसरिंग कर रहे आधे दर्जन लोग ओलावृष्टि से घायल हो गये। जिनमे वार्ड 6 के अशेश्वर यादव, पप्पू यादव, विवेक यादव, ग्रुरुशरण यादव घायल है। जिनका ईलाज निजी क्लिनिक में चल रहा है।

वही वार्ड 6 के प्रमोद यादव, बुधन पासवान, वार्ड 9 के सुनीता देवी, वार्ड 3 के कुशुमा देवी, 8 के रधिया देवी, 5 के विनोद यादव सहित कई दर्जन लोगों के घर के एस्बेस्टस को बड़े आकर में गिरे ओले ने तोड़कर क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके अलावे वैसे किसान जिनके गेंहू की फसले 70 फिशदी खेतों में ही लगी थी, वो भी ओलावृष्टि के चपेट में आकर बर्बाद हो गया। आम के तिकोले झर कर बर्बाद आ गया। कुल मिलाकर प्रखंड के विभिन्न गांव में फसल व आम के सैकड़ो एकड़ की फसल बर्बाद हो गया। जिससे करोड़ो की क्षति का अनुमान लगाया जा रहा है।

परसौना पंचायत के मधवापट्टी व जरैल गांव में मंदना बेगम, अजीजा दुहि, सफ़िया खातुन, मोस्मात सेहरुण, आलम गिर, अपवाना असफाक, रंधीर कुमार सहित दर्जनों लोगो के फूस का घर तबाह हो गया। बड़ी संख्या में लोगो ने सरकार से इस आपदा की घड़ी में सहायता उपलब्ध कराने की मांग की है. साथ ही बनकट्टा, बेनीपट्टी, बेहटा, उच्चैठ, बेतौना, पाली, शाहपुर, शिवनगर, दामोदरपुर, कटैया, सलहा, समदा, धनौजा, सरिसब, ढंगा, चंपा, परजुआर, महमदपुर, गैवीपुर, त्यौथ, बनाटपुर, मनपौर, गम्हरिया, धकजरी, अड़ेर, नगवास, करही, नवकरही, विशनपुर, शिवनगर, बररी, गांगुली, उड़ेन, मेघवन, ब्रहमपुरा सहित अधिकांश गांवों में आंधीसंकट और हुए ओलावृष्टि से आम तो पुरा बर्बाद हो ही गया और गेहूं के फसल की भी काफी क्षति हुई है।

गेहूं की फसल कटनी के लिये तैयार था। कई गांवों में कटनी के बाद थ्रेसरिंग का कार्य भी किया गया है। मगर जिन गांवों में कटनी नही किया गया था और फसल खेत में ही लगे थे, वहां गेहूं फसल की काफी क्षति हुई है। इस ओलावृष्टि और आंधी से स्टेट हाईवे 52 सहित ग्रामीण सड़कों के किनारे लगे वृक्ष भी गिर गये। वहीं घर के छत के रूप में लगाये गये एस्बेस्टस भी क्षतिग्रस्त हुए है। किसानों ने कहा कि आशा के साथ गेहूं फसल की रोपनी किया था। कटनी के समय में कुदरत ने हमलोगों पर कहर बरसा दिया। सबकुछ बर्बाद हो गया, अब क्या खायेंगे।

त्यौथ के पैक्स अध्यक्ष विवेक कुमार राय, गांगुली के पैक्स अध्यक्ष प्रेमशकर राय, ब्रहमपुरा के मुखिया अजित पासवान, नवकरही के मुखिया कृपानंद झा आजाद, परसौना के अजय कुमार झा, बनकट्टा की किरण देवी, विशनपुर की कुमारी रीता गुप्ता, सलहा के गुलाब ठाकुर, महमदपुर की कुमरिया देवी, बेतौना के पैक्स अध्यक्ष प्रभात कुमार कर्ण, बेहटा की मुखिया ललित देवी, करहारा की मुखिया शीला देवी, शाहपुर की मुखिया मंजू देवी, परौल के मुखिया लाल नारायण सिंह, बररी के आलम अंसारी सहित अन्य जनप्रतिनिधियों और पैक्स अध्यक्षों ने सरकार एवं जिला प्रशासन से सर्वे कराकर पीड़ित परिवार को मुआवजा दिये जाने की मांग की है। पेड़ पौधे भी बड़ी संख्या में टूटकर सड़क पर गिरे हुये भी देखे गये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!