गज़वा गांव दो महीने से झील में तब्दील, लोगो का जनजीवन अस्त व्यस्त

बिस्फी: प्रखंड क्षेत्र के भोजपन्डौल पंचायत के गजवा गांव विगत दो महीने से झील में तब्दील होने से लोगो का जनजीवन अस्त व्यस्त बना हुआ है।लोगो के घर आंगन में पानी लगा हुआ है।कई लोग अभी तक बेघर बने हुए है।बेघर हुए मीना देवी,पवन मंडल,शीला देवी सहित आधे दर्जन लोगों ने बताया कि अपने छोटे -छोटे बच्चों के साथ दूसरे के घर मे किसी तरह रात गुजार लेते हैं।चापाकल पानी मे डूबे होने से पीने को शुद्ध पानी भी मुश्किल है।

लोगो का आवागमन भी वाधित है।गज़वा से बसौली जाने वाली मुख्य सड़क पर लगभग एक सौ फीट में दो से ढाई फिट पानी जमा है।जिससे आवागमन में भी काफी कठिनाई हो रही है।कई राहगीर चोटिल भी हो चुके।जबकि यह सड़क सिमरी बाजार से सलेमपुर,भोजपन्डौल होते हुए गजवा से बसौली के एनएच 105 में मिलती है।जिससे होकर सैकड़ो छोटे बड़े वाहनों का परिचालन प्रतिदिन होता है।

जलजमाव से रास्ते का सही पता नही चलने से कई बाइक सवार तथा चार पहिए वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो चुके।इसके वावजूद भी इस ओर न तो प्रशासनिक अधिकारी का कोई ध्यान है और न ही स्थानीय जनप्रतिनिधि का।ग्रामीण मनोज मंडल,जितेंद्र मंडल,लालबहादुर मंडल,गर्भू मंडल,शिवजी सहनी,छितन राम,फ़क़ीर मंडल,राजेन्द्र मंडल,विंदेश्वरी देवी,सियाशरण मंडल सहित अन्य लोगो ने बताया कि गांव से जल निकासी नही होने के कारण यह समस्या बनी हुई है।

जल निकासी के रास्ते को असामाजिक सोच के लोगो द्वारा अतिक्रमण कर बंद कर दिया गया है।जलजमाव के कारण लोगो अब कीड़े-मकोड़े एवं महामारी फैलने का डर सताने लगी है।इन समस्याओ से निजात को लेकर ग्रामीणों ने सीओ को आवेदन देकर जल निकासी करवाने एवं नाले के मुहान को अतिक्रमण से मुक्त करवाने की गुहार लगायी है।अब देखना हैं कि प्रशासन कब तक लोगो की समस्या से निजात दिला पाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!