राजद के पूर्व प्रखंड अध्यक्ष 19 को बतौर निर्दलीय प्रत्याशी भरेंगे नामांकन का पर्चा

बेनीपट्टी (मधुबनी): बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर एक ओर जहां महागठबंधन और एनडीए गठबंधन के द्वारा सीट बंटवारे कर प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी गयी है, और प्रत्याशियों को लेकर तमाम अटकलों पर अब विराम लग चुका है, वहीं दूसरी ओर पार्टी की ओर से टिकट नही मिलने से नाराज नेताओं के द्वारा बतौर निर्दलीय प्रत्याशी के रुप में चुनावी मैदान में कूदे जाने की घोषणाओं से बेनीपट्टी विधानसभा क्षेत्र में चुनावी जंग दिलचस्प होते नजर आने लगी है.

कई दलों के नेताओं द्वारा नामांकन का पर्चा दाखिल किये जाने की घोषणाओं के बाद क्षेत्र में नफा नुकसान का आकलन किये जाने का सिलसिला तेज हो गया है. बुधवार को राजद के पूर्व प्रखंड अध्यक्ष सह पूर्व जिला पार्षद राजेश यादव ने भी अब चुनावी अखाड़े में उतरने की घोषणा कर दी है.

उन्होंने इसकी जानकारी प्रेस प्रतिनिधियों को देते हुए हुए कहा कि हमने टिकट नही मिलने पर जनता और समर्थकों से राय मशविरा किया. जनता जनार्दन का आदेश स्वतंत्र प्रत्याशी के रुप में बेनीपट्टी विधानसभा से आने का प्राप्त हुआ है. इसलिये हम 19 अक्टूबर को बतौर निर्दलीय प्रत्याशी अपना नामांकन का पर्चा दाखिल करेंगे. इसके लिये हमने जनसंपर्क अभियान शुरु कर दिया है. बुधवार को वे बेनीपट्टी विधानसभा के कलुआही प्रखंड में जनसंपर्क अभियान चलाकर मतदाताओं से अपना समर्थन मांगना शुरु कर दिया है.

गौरतलब हो कि बेनीपट्टी के वर्तमान प्रखंड अध्यक्ष सहित कुछ राजद कार्यकर्ताओं के द्वारा पिछले दिनों निवर्तमान विधायक भावना झा के रवैये के प्रति नाराजगी जाहिर किये जाने की खबर सामने आई थी. जिसमें स्पष्ट कहा गया था कि विधायक ने पिछले पांच साल में राजद मतदाता बहुलता वाले क्षेत्र में न तो कोई विकास कार्य कीं न ही राजद कार्यकर्ताओं को विश्वास में बनाये रख सकीं.

इतना ही नही बल्कि कांग्रेस के भी कुछ चुनिंदे कार्यकर्ताओं के इशारे पर काम करतीं रहीं और जातिवाद की दुर्भावना से ग्रसित रहीं. जिसकी वजह से राजद के समर्थक उन्हें वोट देना नही चाहते. राजद द्वारा प्रत्याशी बदले जाने की मांग भी की गई थी. अगर यह नाराजगी दूर करने में निवर्तमान विधायक कामयाब नही रहीं तो चुनाव कड़ी टक्कर के होने के आसार बढ़ जायेंगे.

उधर राजद के पूर्व प्रखंड अध्यक्ष श्री यादव का कुछ खास वर्ग के मतदाताओं पर अच्छी पकड़ होने की बातें भी कही जा रही है. कुल मिलाकर बेनीपट्टी विधानसभा का चुनाव इस बार कांटे के टक्कर के बीच होने की स्थिति अब तक बनती दिख रही है. वैसे चुनाव के तुरंत पहले मतदाताओं का मूड बदल जाये और परिणाम कुछ अप्रत्याशित भी हो जाये यह कहा नही जा सकता.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!