BIG BREAKING : बिहार में भी ब्लैक फंगस अब महामा’री घोषित होगी, पटना में 11 नए मरीज मिले, भागलपुर में एक की मौ’त

मधुबनी : केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि वे ब्लैक फंगस को महामारी रोग अधिनियम-1897 के तहत अधिसूचित बीमारी माने। राज्य और केंद्र शासित प्रदेश इस बीमारी के सभी मामलों की सूचना केंद्र को दें। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने राज्यों और केंद शासित प्रदेशों को चिट्‌ठी लिखी है।

इसके बाद बिहार में ब्लैक फंगस यानि म्यूकॉरमाइकोसिस को महामारी घोषित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अब ब्लैक फंगस भी एपिडमिक एक्ट 1897 के तहत महामारी की श्रेणी में आ जाएगा। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि हमलोगों ने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है। जल्द ही इसे अधिसूचित कर दिया जाएगा।

मरीजों का डेटा सरकार को भेजेंगे अस्पताल नहीं तो होगी कार्रवाई
पटना। स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि महामारी घोषित होने के बाद सरकार को ब्लैक फंगस के हर मामले, मौतों और दवा का हिसाब रखना होगा। कोरोना महामारी की तरह ही अस्पतालों को मरीजों का डेटा सरकार को भेजना होगा। ऐसा नहीं करनेवाले अस्पतालों पर महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। इससे पहले राज्य सरकार एम्स पटना व आईजीआईएमएस को ब्लैक फंगस के इलाज के लिए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस घोषित कर चुकी है। दोनों ही जगहों पर विशेषज्ञों की टीम तैनात की गई है।

ADVERTISEMENT

नौ से ज्यादा राज्यों में ब्लैक फंगस के मरीज, तीन में महामारी घोषित
अभी तक दिल्ली, कर्नाटक, उत्तराखंड, तेलंगाना, मध्यप्रदेश, आंध्रप्रदेश, राजस्थान, हरियाणा और बिहार में ब्लैक फंगस के मरीज मिले हैं। इनमें से राजस्थान, हरियाणा अाैर तेलंगाना इसे महामारी घोषित कर चुके हैं। उधर, दिल्ली सरकार ने कहा है कि वह राज्य में ब्लैक फंगस के इलाज के लिए तीन केंद्र तैयार करेगी। ये केंद्र लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल, गुरु तेगबहादुर अस्पताल और राजीव गांधी अस्पताल में होंगे। इसके अलावा कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु ने ब्लैक फंगस को नोटिफियेबल डिजीज घोषित किया है।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: