BENIPATTI : शिलान्यास के दो वर्ष बाद भी शुरु नही हुआ सड़क निर्माण का कार्य

ईंटे उखाड़कर छोड़ देने से आवागमन में बढ़ी लोगों की परेशानी

बेनीपट्टी : अनुमंडल में सड़क का निर्माण हो या बिजली पावर सबस्टेशन निर्माण आदि अन्य विकास कार्य हो. ये सभी विकास कार्य भले ही शुरु हो या न पर शिलान्यास का बोर्ड लगाने में जनप्रतिनिधियों ने कोई कमी नही छोड़ी है. अनुमंडल के कई इलाकों में ऐसे कई नमूने सहज ही देखे जा सकते हैं, जहां जनप्रतिनिधियों ने अपना नाम अंकित शिलान्यास का बोर्ड लगवाने और पूरे ताम झाम के साथ ताबड़तोड़ शिलान्यास कर अपनी वाहवाही लूटने में कोई कोर कसर नही छोड़ी. भले ही काम पूरा हो या नही और हुआ भी तो उसकी गुणवत्ता किस तरह की है. इन सारे तथ्यों से जनप्रतिनिधियों को कोई लेना देना नही रह जाता. शिलान्यास और उद्घाटन के अलावे अन्य जिम्मेवारी अपने कार्यकर्ताओं पर छोड़ जनप्रतिनिधि निश्चिंत हो जाते हैं.

बेनीपट्टी में जर्जर पड़ी अग्रोपट्टी से महाराजी बांध तक जानेवाली सड़क

ऐसा ही एक मामला अग्रोपट्टी चौक से महाराजी बांध तक जानेवाली सड़क निर्माण की है, जहां करीब सवा दो साल पहले 29 जनवरी 2019 को बेनीपट्टी की तत्कालीन विधायक भावना झा सड़क निर्माण की आधारशिला रखीं थीं और क्षेत्र के विकास प्रक्रम को निरंतर जारी रखे जाने पर प्रतिबद्धता जाहिर कीं थीं. लेकिन आधारशिला रखने के बाद सड़क निर्माण कार्य शुरु नही हुआ. आखिर किस वजह से कार्य शुरू नही हो सका, इन सारी समस्याओं को लेकर न तो तत्कालीन विधायक न ही संबंधित अधिकारी ही संवेदनशील रहे. लिहाजा शिलान्यास के सवा दो साल बीतने के बाद भी निर्माण कार्य अधूरे पड़े हैं. बता दें कि जीटीएसएनवाई योजना के तहत तकरीबन 96 लाख रुपये की लागत से सड़क का निर्माण कराया जाना था. शिलान्यास बोर्ड पर न तो कार्यारम्भ और न ही कार्य समापन की तिथि अंकित है न ही प्राकलन राशि का ही कहीं उल्लेख है. सड़क निर्माण का कार्यकारी एजेंसी ग्रामीण कार्य विभाग बेनीपट्टी को बनाया गया है.

ADVERTISEMENT

वहीं ग्रामीण मुकेश कुमार, दिवाकर यादव, रंजीत यादव, राहुल ठाकुर, रंजीत ठाकुर, रामएकबाल महतो, श्याम यादव, राम प्रबोध यादव व मनोज महतो सहित कई लोगों ने बताया कि सड़क में आसमान गड्ढे होने के कारण आये दिन वाहन दुर्घटना होती रही है. संवेदक द्वारा सड़क के कुछ भाग को खोदकर और कुछ जगहों पर रोड़ा डालकर छोड़ देने से लोगों को आवाजाही में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. संवेदक को बार-बार कहे जाने पर वे टालते रहे हैं, जिससे अधिकारियों के खिलाफ ग्रामीणों में आक्रोश गहराने लगा है. ग्रामीणों ने यह भी कहा कि जल्दी ही सड़क निर्माण कार्य शुरु नही किया गया तो हम सभी आंदोलन को बाध्य होंगे. इस बाबत ग्रामीण कार्य विभाग के बेनीपट्टी प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता अशोक कुमार ने कहा कि जानकारी प्राप्त की जा रही है. समस्या के निदान को लेकर पहल किया जायेगा.

ADVERTISEMENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: