सरकार और कृषि विभाग के रवैये से नाराज किसान सलाहकारों ने किया विरोध प्रदर्शन

बेनीपट्टी में नारेबाजी कर विरोध व्यक्त करते कृषि सलाहकार

बेनीपट्टी(मधुबनी) : सरकार की संवेदनहीनता और कृषि पदाधिकारियों की धमकी से आक्रोशित बेनीपट्टी के किसान सलाहकारों ने प्रखंड कृषि कार्यालय में मंगलवार को विरोध प्रदर्शन किया और कार्य का बहिष्कार किया. इस दौरान मौजूद सभी सलाहकारों ने कृषि कार्यालय के मुख्य गेट पर आकर सरकार और प्रशासन के खिलाफ बिहार सरकार और कृषि विभाग हाय!हाय! सहित अन्य प्रकार के नारे लगा अपने गुस्से का इजहार किया.

विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान सलाहकारों ने बताया कि किसान सलाहकार संयुक्त मोर्चा के तत्वावधान में कृषि विभाग और बिहार सरकार के समक्ष अपनी मांगों से संबंधित पत्र दिया गया था. जिस पर विभागीय पदाधिकारियों के द्वारा अब तक सकारात्मक निर्णय नही लिया गया और उसके विपरीत प्रदेश से जिला स्तर तक के विभिन्न विभागीय पदाधिकारियों के द्वारा लगातार गलत तरीके से धमकी दिये जाने का कार्य किया जा रहा है.

पदाधिकारियों के गलत रवैये की वजह से प्रदेश में कार्यरत दो किसान सलाहकारों की आकास्मिक मृत्यु हो गयी. जिसमें एक सुपौल जिले के राजेंद्र मेहता और दूसरे कैमूर जिले के नीरज कुमार काल के गाल में समा चुके हैं. विभागीय पदाधिकारियों के गलत रवैये और सरकार की संवेदनहीनता के विरुद्ध संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर बीते 31 अगस्त से 10 सितंबर तक हड़ताल आहूत करने का निर्णय लिया गया है, जिसके आलोक में हम सभी कार्य बहिष्कार कर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.

सलाहकारों ने यह भी बताया कि 10 सितंबर तक विभाग द्वारा कोई सकारात्मक निर्णय नही लिया गया तो राज्य स्तरीय बैठक आहूत कर अपने मान सम्मान की रक्षा के लिये किसी भी प्रकार का कदम उठाने को बाध्य होंगे. इसकी सारी जबाबदेही कृषि विभाग और बिहार सरकार की होगी. मौके पर जितेंद्र कुमार मिश्रा, पप्पू कुमार सिंह, शैलेंद्र झा, पंकज कुमार,मो. काफिल, विनय कुमार झा, सुशील कुमार मंडल, प्रमोद कुमार शास्त्री, तपेंद्र लाल, संजय कुमार झा व मनोज कुमार झा सहित अन्य किसान सलाहकार भी मौजूद थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!