बेनीपट्टी में अपनी मांगों को लेकर आंगनबाड़ी सेविका-सहायिकाओं ने किया किया धरना प्रदर्शन

बेनीपट्टी (मधुबनी): प्रखंड कार्यालय स्थित बाल विकास परियोजना कार्यालय परिसर में बिहार राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी यूनियन (एटक) के बैनर तले प्रखंड अध्यक्ष सह जिला महासचिव शबनम झा की अध्यक्षता में सरकारी कर्मचारी का दर्जा देने सहित अपनी 17 सूत्री मांगों के समर्थन में धरना प्रदर्शन किया गया. इस दौरान सैंकड़ों की संख्या में मौजूद सेविका सहायिकाओं ने सामाजिक दूरी का पालन करते हुए राज्य राज्य सरकार हाय!हाय! सरकारी कर्मचारी का दर्जा देना होगा, लाल साड़ी करे पुकार बंद करो ये अत्याचार सहित अन्य प्रकार के नारे लगा राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और अपना रोष प्रकट की.

इस दौरान यूनियन के जिला महासचिव शबनम झा ने कहा कि डीबीटी के माध्यम से वास्तविक लाभार्थियों को उचित पोषण प्राप्त नही हो सकेगा. डीबीटी लागू करने से डब्लूएचओ की गुणवत्तापूर्ण पोषण संबंधित निर्देशों व मानकों का उलंघन होगा. इसलिये सरकार केंद्र संचालन कराने के साथ डीबीटी की व्यवस्था को विधिवत समाप्त करे. उन्होंने कहा कि सरकार सेविका और सहायिका को सरकारी कर्मी का दर्ज दें. लंबे दिनों से कार्यरत सेविकाओं को पर्यवेक्षिका और सहायिकाओं को सेविका के पद पर शत प्रतिशत पदोन्नति करने का काम करें. वहीं उन्होंने आइसीडीएस के छह कार्यो को छोड़कर सेविकाओं से जबरन अन्य कार्य कराने की संस्कृति को बंद कराने की जरुरत जतायी.

वहीं जिला मखिया संघ के अध्यक्ष सह प्रदेश महासचिव कृपानंद झा आज़ाद ने कहा कि सेविका सहायिकाओं से न्यूनतम मजदूरी दर से कम राशि पर काम करवाकर शोषण करने का काम कर रही है. सरकार इन्हें सम्मानजनक मानदेय देने की पहल करे. वहीं संरक्षक लोकनाथ झा सहित अन्य वक्ताओं ने कहा कि अपनी मांगों की पूर्ति को लेकर सभी सेविका सहायिका अब आर पार की मूड में आ चुकी है. जब तक हमारी मांगे नही मान ली जाती है तब तक चरणबद्ध आंदोलन जारी रहेगा.

वक्ताओं ने 16 जुलाई को जिला मुख्यालय में प्रस्तावित एक दिवसीय धरना प्रदर्शन में सभी सेविका और सहायिकाओं से एकजुटता का परिचय देते हुए आंदोलन को सफल बनाने की अपील की. उनकी मंगों में श्रम कानून के अनुरूप मानदेय देने, सेविका को पर्यवेक्षिका तथा सहायिका को सेविका के पद पर पदोन्नति देने, आइसीडीएस के छह सेवाओं को छोड़ अन्य कार्य नही कराने, परियोजना कार्यालय में सक्रिय बिचौलिए को बाहर करने सहित अन्य मांगे भी शामिल है.

कार्यक्रम के अंत में धरनार्थियों का एक शिष्टमंडल अपनी मांगों का ज्ञापन संबंधित अधिकारी को सौपा. मौके पर मौजूद सरिता प्रभा, सुधा देवी, पुनीता देवी, अफरोजा खातुन, पिंकी देवी, दाईरानी देवी, दीपशिखा, पूजा देवी, आशा देवी, प्रतिभा देवी, गीता देवी, संगीता देवी, रेणु देवी, चमेली देवी, मोहसिना खातुन, रीता देवी, किरण कुमारी, कल्पना देवी, मिथिलेश देवी, ललिता देवी, अमोल देवी, ममता देवी, राजकुमारी देवी, संरक्षक आरबी ठाकुर, आरके निराला, राजकुमार पासवान, जयनारायण मंडल, दिलीप राय व कृष्णदेव यादव सहित अन्य वक्ताओं ने भी अपना विचार व्यक्त किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!