अफसरशाही व भ्रष्टाचार के विरुद्ध प्रखंड कार्यालय पर अनशन तीसरे दिन भी रहा जारी

हरलाखी : प्रखंड कार्यालय परिसर में राष्ट्रीय दलित न्याय आंदोलन के जिलाध्यक्ष मोहन राम के द्वारा अफसरशाही व भ्रष्टाचार के विरुद्ध अनिश्चितकालीन अनशन तीसरे दिन भी जारी रहा।

अनशनकारी की तबियत में लगातार गिरावट होती जा रही है। जिससे उनके समर्थकों में आक्रोश है। बुधवार को डॉक्टरों ने अनशनकारी की बीपी एवं वेट की जांच की। मालूम हो कि जिलाध्यक्ष अपनी 10 सूत्री मांगों को लेकर 8 फरवरी से अनशन पर बैठे हुए हैं। जिसमें प्रखंड कार्यालय में शीघ्र आधार सेंटर शुरू करने, प्रखंड के आरटीपीएस काउंटर पर नए राशनकार्ड के लिए फॉर्म जमा लेना, पूर्व में बनाए गए राशनकार्ड में छूटे हुए पारिवारिक सदस्य का नाम जोड़ना, कोरोना काल में घोषित राशनकार्ड धारियों के खाते में 1 हजार रुपए भेजना, आपूर्ति पधाधिकारी के द्वारा जनवितरण प्रणाली से अवैध वसूली को बंद करना, प्रखंड आपूर्ति कार्यालय प्रतिदिन खुलना, बिशौल सहित अन्य पंचायतों में शौचालय प्रोत्साहन राशि में अवैध वसूली की जांच करना, प्रत्येक दाखिल खारिज में अवैध वसूली की जांचकर कार्रवाई करना, पीएम आवास योजना में नाम जोड़ने का काम शुरू करवाना व सात निश्चय योजना के तहत वार्ड के बकाया राशि का भुगतान शीघ्र करने की मांग शामिल है।

ADVERTISEMENT

बुधवार को अनशन स्थल पर आए हरलाखी विधानसभा के उम्मीदवार रहे मो शब्बीर ने कहा कि प्रशासन को चाहिए कि जल्द से जल्द सभी बिंदु पर जांच शुरू करे। जल्द से जल्द अनशन समाप्त करने की पहल करे।

ADVERTISEMENT

अनशनकारी के समर्थन में बुधवार को राजद नेता रामचंद्र साह, योगेंद्र राउत, विनोद यादव, राम यादव सहित दर्जनों लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: