कोविड काल के दौरान भी मिलेगा अतिथि शिक्षकों का पारिश्रमिक, सरकार ने दिया जबाब

विधायक सुधांशु शेखर ने अतिथि शिक्षकों के बकाए पारिश्रमिक से हो रही समस्याओं पर प्रश्न किया, सरकार ने दिया जबाब

विधानसभा में बात रखते सुधांशु शेखर

हरलाखी : विधायक सुधांशु शेखर ने विधानसभा में उच्च विद्यालयों में कार्यरत अतिथि शिक्षकों के बकाए पारिश्रमिक व आंगनबाड़ी सेविका सहायिका बहाली में हो रही देरी पर सरकार के समक्ष प्रश्न किया था। जिस पर जबाब देते हुए सरकार ने कहा शिक्षा विभाग द्वारा 25 जनवरी 2018 से प्लस टू विद्यालयों में अतिथि शिक्षक कार्यरत है। जिसका पारिश्रमिक एक हजार प्रतिदिन व अधिकतम 25 हजार प्रतिमाह के दर से निर्धारित किया गया है।

ADVERTISEMENT

जिसमे कोविड 19 के दौरान विद्यालय बंद रहा, लेकिन सरकार वित्तिय वर्ष 2020-21 में शैक्षणिक कैलेंडर के अनुसार अतिथि शिक्षकों को कार्यरत मानते हुए पारिश्रमिक का भुगतान का निर्देश दिया गया है। अब तक 15 जिलों में इन शिक्षकों को जनवरी 2021 तक व एक जिला में दिसंबर 2020 तक का पारिश्रमिक भुगतान कर दिया गया है।

ADVERTISEMENT

शेष 22 जिलों में दिसंबर 2020 के पूर्व अवधि का पारिश्रमिक भुगतान लंबित है। उन जिला के जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं जिला कार्यक्रम पदाधिकारी(माध्यमिक) से विभागीय पत्रांक 270 दिनांक 13 मार्च 2021 द्वारा स्पष्टीकरण पूछते हुए लंबित पारिश्रमिक का जल्द भुगतान करने हेतु आदेशित किया गया है। अतिथि शिक्षकों की सेवा वैकल्पिक व्यवस्था के तहत शिक्षक नियोजन तक लिया जाना है। 60 वर्ष सेवा करने का कोई प्रस्ताव नही है।

ADVERTISEMENT

विधायक श्री शेखर ने बताया कि शिक्षकों के हित के लिए हमसभी प्रतिबद्ध है। जल्द अतिथि शिक्षकों को बकाया पारिश्रमिक का भुगतान कर दिया जाएगा। वैसे सेवा 60 साल करने के लिए सरकार के समक्ष प्रयास किया जाएगा।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: