बेनीपट्टी में मिथिला कला अभियान कार्यालय में हुआ सम्मान समारोह का आयोजन

अमेरिका में ह्यूमैन टेक्सास इंजीनियर रहे दामोदरपुर गांव के संतोष झा ने किया अनुभव साझा

बेनीपट्टी में आयोजित सम्मान समारोह में मौजूद लोग

बेनीपट्टी : अगर सच्चे हृदय से कोई काम कर कोई कठिन लक्ष्य प्राप्त करना चाहे तो उसके उड़ान को पंख लग सकते हैं. मिथिला पेंटिंस के क्षेत्र में भी कई लोगों ने विश्व स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनाने का काम किया है. मिथिला पेंटिंग की पहचान भारत के अलावे विदेशों में भी है. उनके द्वारा मिथिला पेंटिंग आदि के विकास के लिये जो भी करना पड़ेगा वह किया जायेगा.

ADVERTISEMENT

मुख्यालय में डॉ. पीआर सुल्तानियां और उनके संस्थान के द्वारा चिकित्सा सेवा के अलावे मिथिला पेंटिंग, निःशुल्क कंप्यूटर, सिलाई-कटाई, महिला व बालिका स्वावलंबन के अलावे सामाजिक कार्यों में निभाये जा रहे भूमिका सराहनीय है. इन क्षेत्रों में किये जा रहे कार्य सराहनीय है. हमें उनसे अभी बहुत कुछ सीखने की जरूरत है. ये उक्त बातें आस्था विकास ट्रस्ट के तत्वावधान में संचालित मिथिला कला अभियान के बेनीपट्टी स्थित कार्यालय में आयोजित सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए बेनीपट्टी प्रखंड के दामोदरपुर गांव निवासी सह अमेरिका के ह्यूस्टन टेक्सास में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे संतोष झा ने उपस्थित प्रशिक्षुओं और अभियान से जुड़े लोगों को संबोधित करते हुए कही.

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा कि मिथिला पेंटिंग मिथिला की पहचान है और इसके विकास के लिये अमेरिका में भी पहल किया जायेगा. इसके आस्था विकास ट्रस्ट व अस्पताल के संस्थापक डॉ. पीआर सुल्तानियां ने अमेरिका में सॉफ्टवेयर इंजीनियर रहे संतोष झा व उनकी पत्नी रिंकू झा को मिथिला के पारंपरिक रीति-रिवाज के अनुसार, मिथिला पेंटिंग चित्रित पाग, दोपटा, मास्क, हैंड बैग, शॉल, मिथिला पेंटिंग से सम्मानित किया. वहीं डॉ. सुल्तानियां ने कहा कि अमेरिका जैसे देश में भी भारत अपनी पहचान के लिये जाना जाता है.

ADVERTISEMENT

इससे पूर्व मिथिला कला एकल अभियान के छात्राओं के द्वारा स्वागत गान प्रस्तुत किया गया. मौके पर पवन चौधरी, डॉ. मोहन झा, श्रवण सुल्तानियां, श्यामानंद झा, रामकृष्ण साह, अशोक कुमार सिंह सहित अन्य लोग भी मौजूद थे.

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: