शिलान्यास के दो वर्ष बाद भी नही शुरू हुआ विधुत पावर सबस्टेशन निर्माण का कार्य

साढ़े 8 करोड़ की लागत से होनेवाले निर्माण की तत्कालीन कृषि सह जिले के प्रभारी मंत्री प्रेम कुमार ने किया था शिलान्यास

बेनीपट्टी : सरकार सिर्फ घोषणाएं करती है। जिसमे कई योजनाएं पूर्ण होती है तो कई योजना धरातल पर ही दम तोड़ देती है। जिसका जीता जागता मिशाल प्रखंड के पश्चिमी इलाके में निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के उद्देश्य से विधुत पावर सबस्टेशन निर्माण का कार्य शिलान्यास के दो साल बाद भी शुरू नही हो सका है। जिससे लोगों में नाराजगी व्याप्त है।

ADVERTISEMENT

तकरीबन दो साल पहले सूबे के कृषि सह जिले के प्रभारी मंत्री प्रेम कुमार ने रिमझिम बारिश के बीच प्रस्तावित निर्माण स्थल पर अपने पूरे काफिले के साथ पहुंचकर निर्माण कार्य की न केवल आधारशिला रखी थी बल्कि विधिवत रूप से भूमिपूजन कर जल्द ही निर्माण कार्य शुरू होने का आश्वासन भी दिया था। शिलान्यास के बाद लोगों में पश्चिमी इलाके के लोगों में बेहतर बिजली आपूर्ति होने के आस जगी थी। लेकिन दो साल बीतने के बाद भी उक्त स्थल पर निर्माण के नाम पर एक अदद इंट तक नही लगायी जा सकी है, जो विभाग के लचर रवैये का परिचायक है।

ADVERTISEMENT

उक्त प्रस्तावित निर्माण स्थल पर फिलहाल गेंहू के लहलहाते फसलें देखी जा रही है। बता दें कि चानपुरा गांव स्थित कृषि विज्ञान केंद्र के समीप वेदमति भावना चौधरी विधुत सेवा केंद्र नामक विधुत सब स्टेशन का निर्माण करीब साढ़े आठ करोड़ रुपये की लागत से निर्माण होना है। इस केंद्र कर शुरुआत होने से पश्चिमी क्षेत्र के 30 पंचायतों के तकरीबन 25 हजार परिवारों का निर्बाध और बेहतर बिजली आपूर्ति उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित था। जिससे बसैठ फीडर में आये दिन समस्याओं से बताते चलें कि यह प्रस्तावित विधुत पावर सबस्टेशन के लिये एसके चौधरी एजुकेशनल ट्रस्ट के निदेशक सह चानपुरा गांव निवासी डॉ. संत कुमार चौधरी ने 15 कट्ठा 9 धुर जमीन दान में थी। दान में मिले जमीन के कारण ही उक्त केंद्र का नामाकरण डॉ. चौधरी के माता पिता के नाम पर किया गया था।

यह विधुत उपकेंद्र बेनीपट्टी क्षेत्र का आठवां विधुत केंद्र था, जो अब तक अधर में लटका पड़ा है. विधुत प्रोजेक्ट के तत्कालीन कार्यपालक अभियंता मो. साजिद हुसैन ने तब कहा था कि बिजली बोर्ड के प्रोजेक्ट फेज टू से तकरीबन साढ़े करोड़ की लागत से एक वर्ष में पूरा कर विधुत आपूर्ति शुरू कर दी जायेगी। उधर इन दिनों बसैठ फीडर पर क्षमता से अधिक लोड होने और लंबी दूरी तक आपूर्ति किये जाने के कारण अक्सर लो और हाई वोल्टेज की समस्याएं बनी रहती है। इस क्रम में कई बार उपभोक्ताओं का बिजली, पंखा, टीवी, फीज और बल्ब आदि अन्य उपकरणें भी जलकर खाक हो चुकी है। हल्की हवा चलते ही पूरा इलाका अंधेरे के आगोश में समा जाता है।

इस बाबत पूछे जाने पर विधुत सबस्टेशन बेनीपट्टी के एसडीओ पुणेन्द्रू कुमार सिंह ने बताया कि यह बेनीपट्टी में मेरे पदास्थापन से पूर्व का मामला है। पूरी जानकारी जुटा रहे हैं। इसके बाद ही इस संबंध में कुछ बताया जा सकेगा।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: