BENIPATTI : ओलावृष्टि के साथ हुई बारिश से किसानों को भारी क्षति

आम, शब्जी व दलहन के फसलों को पहुंचा नुकसान

बेनीपट्टी में शुक्रवार की देर शाम गिरे ओले

बेनीपट्टी : अनुमंडल के सभी इलाकों में शुक्रवार की देर शाम जमकर ओलावृष्टि हुई. ओलावृष्टि के साथ ही हवा के झोंके के साथ बारिश होने से कई फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है. कई किसानों ने बताया कि अभी तक 25 फीसदी किसानों के गेंहू की फसल खेतों में ही पड़ी है. कहीं कटनी बांकी है तो कई जगहों पर काटे गये गेंहू की फसल को बोझा बनाकर दौनी के लिये खेत या खलिहान में ही छोड़ रखे थे, जो ओलावृष्टि के कारण नष्ट हो गये. कई किसान तो ओलावृष्टि के दौरान गेंहू की थ्रेसरिंग करा रहे थे, जो आनन फानन में सब कुछ छोड़कर भागे. कुछ अनाज को बचाया जा सका तो जो बोझे में ही रह गये से वह पानी और पत्थर में गीले हो गये. अधिकांश बोझे वाले गेंहू के दाने गल गये. किसानों को भारी क्षति हुई.

ADVERTISEMENT

इसके अलावे आम के पौधों में कहीं मंजर निकल चुके थे तो कहीं छोटे-छोटे टिकोले निकल चुके थे. जिसे ओलावृष्टि ने बर्बाद कर दिये. वहीं कई एकड़ में अब भी दलहन की फसलें खेत में ही लगी थी जो ओलावृष्टि का शिकार होकर तहस नहस हो गयी. देर शाम हुई ओलावृष्टि का सर्वाधिक असर बंधा गोबी, मूली, भिंडी, करैला, साग, परवल, खीरा व लौकी सहित अन्य सब्जी की फसलों पर हुई है. कई सब्जियों के पौधे बेहद कोमल होते हैं, जो ओलावृष्टि के कारण गल कर बर्बाद हो गया. कई लोगों ने बताया कि तकरीबन 50 से 5 सौ ग्राम वजन तक के ओले गिरे. कुल मिलाकर ओलावृष्टि के साथ हुई झमाझम बारिश ने किसानों को व्यापक पैमाने पर क्षति पहुंचाई है.

ADVERTISEMENT

उधर वैसे घरों जिनके छत पर एस्बेस्टर थे, ओलावृष्टि के कारण जगह-जगह से टूटकर क्षतिग्रस्त हो गये. कितने दरबाजे व घर के छत पर रखे एस्बेस्टर उड़कर दूर जा गिरा और टूटकर नष्ट हो गया. कुल मिलाकर तकरीबन 20 मिनट तक हुई ओलावृष्टि ने किसानों पर वज्रपात करने का काम किया है.

ADVERTISEMENT

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: